जाने… बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड होने के क्या हैं फायदे और नुकसान

नई दिल्ली:  फिल्म ‘मैं हूं ना’ में शाहरुख खान जब सुष्मिता सेन को देखते हैं तो उनके आसपास वायलन बजने लग जाते हैं। यानी वह मानों दूसरी ही दुनिया में चले जाते हैं, जहां सिर्फ प्यार और रोमांस होता है। रियल लाइफ में भी जब प्यार की शुरुआत होती है तो कपल कुछ ऐसा ही महसूस करते हैं। सुबह गुड मॉर्निंग से शुरू हुआ दिन लगातार चैट करने के बाद रात को देर तक बात करने के बाद खत्म होता है। लेकिन रिलेशनशिप सिर्फ हैपी फीलिंग्स ही नहीं बल्कि आपको नुकसान भी पहुंचा सकती है। तो चलिए जानते हैं लाइफ में बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड होने के फायदे और नुकसान के बारे में…

फायदा: दोस्त और लवर का पैकेज
बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड दिल के इतने करीब होता है और उनसे दिनभर में इतनी बातें होती हैं कि वह न सिर्फ आपकी जिंदगी का प्यार बल्कि क्लोज फ्रेंड भी बन जाते हैं। आपको किस चीज ने अपसेट किया, किस चीज ने खुशी दी, क्या पसंद है क्या नहीं जैसी छोटी-छोटी चीजें कपल एक-दूसरे से रोज ही शेयर करने लग जाते हैं, जिस वजह से ऐसा अहसास होता है कि जिंदगी के हर पल में कोई आपके साथ खड़ा है।

देश, दुनिया और अपनी आस पास की ख़बरों के लिए यहां Click करें…

नुकसान : असली दोस्त हो जाते हैं कम
रिलेशनशिप की दोस्ती वाली खासियत असली फ्रेंड्स को दूर करने का भी काम करती है। चूंकि आप ज्यादा समय अपने लवर से बात करते या डेट पर जाने पर बिताते हैं इस वजह से फ्रेंड सर्कल में जाना या उनसे बात होना कम हो जाता है। शुरुआत में तो सभी फ्रेंड्स अजस्ट करते हैं लेकिन बाद में वे दूर होने लग जाते हैं और प्यार में डूबे शख्स को अहसास भी नहीं हो पाता कि उसके क्लोज फ्रेंड्स भी अब उससे दूर हो चुके हैं।

फायदा: केयर करना सीखना

प्यार में होने पर लव्ड वन का ख्याल रखना आम सी बात है। शॉपिंग पर जाने पर उनके लिए भी कपड़े पसंद करना, कुछ खाना तो उनके लिए भी ऑर्डर कर देना, मूड खराब हो तो उसे अच्छा करने के लिए कुछ करना, तबीयत खराब हो तो ख्याल रखना आदि। प्यार आपको जिस तरह से किसी की केयर करना सिखाता है वह कोई दूसरी चीज शायद ही कभी सिखा पाए।

नुकसान: खुद की केयर करना भूल जाना
कपल एक-दूसरे की केयर में इतने बिजी हो जाते हैं कि वे खुद का ही ख्याल रखना भूल जाते हैं। ज्यादा बात करने पर आपको सोने का ठीक से टाइम नहीं मिलेगा जो सिरदर्द, डार्क सर्कल, मूड खराब होने जैसी चीजों को जन्म देता है। खुद के साथ उनके लिए भी शॉपिंग करना बजट बिगाड़ सकता है जिसका खामियाजा आपको महीने के अंत में भुगतना होगा। इससे मिलने वाला स्ट्रेस स्किन ट्रबल का भी कारण बनता है। ऐसी ही न जाने कितनी चीजें हैं जो ने लव्ड वन की केयर करते हुए खुद के लिए ही करना भूल जाते हैं और फिर परेशानी खुद भुगतनी पड़ती है।

देश, दुनिया और अपनी आस पास की ख़बरों के लिए यहां Click करें…

फायदा : इमोशनल सपॉर्ट मिल जाना

बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड के होने पर इमोशनल सपॉर्ट मिलने का एक जरिया सा मिल जाता है। इसकी वैल्यू खासतौर पर तब महसूस होती है जब आप दुखी, गुस्सा या स्ट्रेस्ड होते हैं। ऐसे समय में अपने लव्ड वन से बात कर दिल हल्का तो होता है ही साथ ही में उनसे चीजों को लेकर राय व कई मामलों में गाइडेंस भी मिलती है, जिससे इमोशनल तौर पर परेशान करने वाली चीजों से निपटने में मदद मिलती है।

नुकसान : इमोशनली कमजोर हो जाना
किसी एक पर इमोशनल निर्भरता आपको कमजोर कर देती है। आप चुनौतियों से मिलने वाले इमोशनल स्ट्रेस को खुद के लेवल पर झेलना, सॉल्व करना भूल जाते हैं। ऐसी स्थिति में अगर आपकी बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड से बात न हो तो यह आपको और भी नेगेटिव बना देता है, क्योंकि आपको ऐसा लगने लगता है जैसे आपके मुश्किल समय में वह आपके साथ नहीं हैं। यह डबल इमोशनल स्ट्रेस डिप्रेशन का भी कारण बन सकता है, जो तोड़कर रख देता है।

फायदा : निर्भर होने के लिए साथी मिल जाना
रिश्ते में होने पर न सिर्फ इमोशनल बल्कि कई तरह के सपॉर्ट मिल जाते हैं। जैसे टिकट बुक करवा देना, खाना बनाने का मन न हो तो गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड से कह देना, कहीं से कुछ लाना हो लेकिन वहां जाने का मन न हो तो भी उन्हें कह देना आदि। यह चीजें लाइफ को बेहद आसान बना देती हैं और आपको अपने काम पर भी ज्यादा ध्यान लगाने के लिए समय देती हैं।

नुकसान: सेल्फ डिपेन्डन्ट होना भूल जाना
आज खाना बनाने का मन नहीं… कोई न गर्लफ्रेंड ले आएगी। यार इतनी दूर से वह पैकेज लाना है…. कोई न बॉयफ्रेंड को बोल देती हूं। इस तरह की चीजें आपकी एक-दूसरे को लेकर निर्भरता को दिखाता है। लेकिन सोचिए अगर ब्रेकअप हो जाए तब क्या होगा? आपके लिए ये छोटी चीजें भी मुश्किल बन जाएंगी। इसलिए बेहतर है कि खुद से जुड़ी चीजें खुद ही करते रहने की आदत हमेशा बनाए रखें जो आपको आपके लव्ड वन की गैर-मौजूदगी में भी मजबूत बने रहने में मदद करेगी।

देश, दुनिया और अपनी आस पास की ख़बरों के लिए यहां Click करें…

फायदा : हर पल का साथी मिल जाना
कपल्स फोन के जरिए हमेशा कनेक्ट रहते हैं, फिर चाहे मेसेज हो या फिर कॉल। इसके बीच मुलाकात भी हो ही जाती है, ऐसे में हर दिन उनका साथ मिलना जिंदगी को प्यार और केयर से भर देता है। यह खुशनुमा फीलिंग पॉजिटिविटी से भर देती है, जिसका असर नेचर पर भी होता है।

नुकसान: अकेलेपन को न्योता
मान लीजिए आपके बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड का ट्रांसफर हो जाए, उसे बाहर पढ़ने जाना पड़े, किसी टूर पर जाना पड़े या ब्रेकअप ही हो जाए… तब क्या होगा? हर पल जो उनसे भरा होता था वह पूरी तरह खाली हो जाएगा। रिलेशनशिप के कारण आपने जो दूसरों पर ध्यान नहीं दिया इस वजह से आप पाएंगे कि आप अकेले हो गए हैं। इस कारण आपको खुश होने में भी मुश्किल आने लगेगी। यह नेगेटिव फीलिंग्स बुरी तरह से व्यक्ति को प्रभावित करती हैं और उसके काम से लेकर नेचर में इसका नाकारात्मक असर साफ देखने को मिलने लगता है, जो लोगों से दूरी को और बढ़ा देता है। यह व्यक्ति को अकेला कर देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *